क्या आप जानते हैं कि निंजा हठोड़ी की इस क्यूट डिंग-डिंग-डिंग,आवाज़ के पीछे कौन है?


क्या आप जानते हैं कि निंजा हठोड़ी की इस क्यूट डिंग-डिंग-डिंग,आवाज़ के पीछे कौन है
क्या आप जानते हैं कि निंजा हठोड़ी की इस क्यूट डिंग-डिंग-डिंग,आवाज़ के पीछे कौन है

real voice behind ninja hittori, doremon, nobita, dingdingding meghna sudhir erande
अपने बचपन मे हर कोई कार्टून देखता है, और बचपन मे कई कार्टून देखे होंगे आपने. क्यों सही बोला ना. सभी बच्चो को कार्टून देखना बहुत पसंद है और मैं तो आज भी कार्टून देखता हूँ. दरअसल कार्टूनों को हम बचपन से ही अपना दोस्त बना लेते है. शिनचन के बोलने का स्टाइल , निंजा हठोड़ी की “डिंग-डिंग-डिंग” क्या कभी कोई भूल सकता है ? जी नही हम तो अभी तक नही भूले और शायद जिसने बचपन मे कार्टून देखे होंगे उन्हे सबको याद होगा ” हठोड़ी अपने यार” के बारे मे. आपको इन सभी कार्टून के किरदारों की आवाज़ काफ़ी लुभाती होंगी, अगर हम निंजा हठोड़ी की आवाज़ की बात करें तो यह आवाज़ है मेघना सुधीर एरंडे.

मेघना सुधीर एरंडे बहुत ही टैलेंटेड डब्बिंग आर्टिस्ट है. निंजा हठोड़ी के अलववा मेघना ने कई कार्टून्स को अपनी आवाज़ दी है. डब्बिंग इंडस्ट्री मे आने से पहले मेघना मुंबई के एक कॉलेज से मराठी में पढ़ाई की है. उन्होने इसमे टॉप किया था. आज मेघना को डब्बिंग इंडस्ट्री मे अपने करियर बनाए हुए 25 साल हो चुके है. इस दौरान मेघा ने अपने करियर मे कई और कार्टून्स को अपनी आवाज़ दी है. मेघना एक अछि डब्बिंग आर्टिस्ट है.

इनके अलावा मेघना ने कई एनिमेटिड फ़िल्मों में भी काम किया है. ‘कृष्ण और कंस’, ‘रिटर्न्स ऑफ़ हनुमान’ में भी मेघना ने अपनी एडिशनल वॉइसेस दी हैं.
इसके साथ साथ मेघना ने डिस्कवरी चैनल के लिए भी कई आवाज़ें डब की हैं. पूना रेलवे स्टेशन के लिए इन्होंने इंटरैक्टिव वौइस् रिस्पांस भी रिकार्ड किया है.

निचे इस वीडियो मे आप मेघना को कई कार्टून्स की आवाज़ निकालते हुए देख सकते है. और मुझे यकीन है आप इस वीडियो को देख कर, मेघना पर गर्व होगा वाकई मे मेघना का कोई जबाब नही वो किसी भी तरह की आवाज़ निकल सकती है.

आपका कौन से फेवरेट कार्टून है. आपने अपने बचपन मे कौन कौन से कार्टून देखे थे. अगर आपको याद है तो
 आप हमें निचे दिए कॉमेंट बॉक्स मे शेयर कर सकते है.

Comments


log in

Don't have an account?
sign up

reset password

Back to
log in

sign up

Captcha!
Back to
log in