छिपकली गिरने का प्रभाव या फलादेश पुरुषों और महिलाओं पर, शास्त्र के अनुसार


छिपकली गिरने का प्रभाव या फलादेश पुरुषों और महिलाओं पर, शास्त्र के अनुसार
छिपकली गिरने का प्रभाव या फलादेश पुरुषों और महिलाओं पर, शास्त्र के अनुसार

 Chipkali Girne Ka Parbhav Ya Faladesh Purushon Aur Mahilaon Par, Shastra Ke Anusar
हिन्दू ज्योतिष के अनुसार, छिपकली गिरने का प्रभाव या फलादेश शरीर के विभिन्न अंगों पर अगल अलग और स्त्री ( महिलाओं ) और पुरुष के बारे में विस्तार से बतलाया गया है. ऐसा नहीं है की छिपकिली यानि गिरगिट का शरीर पर गिरना या आपके शरीर पर चढ़ना हमेशा अशुभ फल ही देता है. इनमे से कुछ फलादेश शुभ तो कुछ के अशुभ होने का भी संकेत देते है. चलिए दोस्तों आज हम आपको विस्तार से महिलाओं और पुरुषों पर छिपकली या गिरगिट के गिरने पर होने वाले प्रभाव को जानते है.

छिपकली गिरने का प्रभाव शरीर के विभिन्न अंगों पर : छिपकली पुरुषों और महिलाओं के ऊपर गिरने के प्रभाव शास्त्र के अनुसार अलग हैं. ‘मुहूर्त मार्तंड’ भी इन प्रभावों को बताते हैं.

 

छिपकली पुरुषों के ऊपर गिरने का प्रभाव :

  • सिर – विवाद या टकराव होने का संकेत देता है
  • सर के बीच में – मौत का डर या किसी के मौत का समाचार.
  • चेहरा – वित्तीय लाभ या धन लाभ.
  • बायां आँख – सुबह समाचार सुनने को मिलेगा.
  • दाहिनी आँख – कुछ खोने वाला है या किसी काम में असफल होना.
  • माथे या ललाट – प्रेमी-प्रेमिका में मनमुटाव या अलग होने का संकेत देता है.
  • दाहिना गाल – दुखद या बुरी खबर मिलने का संकेत है.
  • बाएं कान – वित्तीय लाभ या धन लाभ.
  • ऊपरी होंठ – झगड़ा या क्लेश.
  • निचले होंठ – वित्तीय या धन लाभ की सम्भावना बढ़ जाती है.
  • एक साथ दोनों होठों पर – मौत का डर या किसी के मौत का समाचार.
  • मुँह – स्वास्थ्य खराब होने का डर.
  • पीठ की बायीं तरफ – विजय / लाभ.
  • रात को सपने में – राजा या शासक का डर
  • कलाई – सौंदर्यीकरण / संशोधन
  • बांह – धन का नुकसान या किसी काम में विफलता का संकेत.
  • उँगलियाँ – पुराने दोस्तों से मिलने का मौका
  • दाहिने हाथ – परेशानी / जटिलता
  • बाएँ हाथ – कुछ शर्मनाक घटनाये या खबर मिलने का संकेत.
  • जांघों – कपड़ों की हानि.
  • मूंछें – आपकी परेशानी बढ़ने वाली है.
  • पैर – आपकी परेशानी बढ़ने वाली है.
  • पैर की पीछे – यात्रा के लिए तैयार हो जाओ.
  • पैर की उंगलियों – शारीरिक बीमारी.

 

छिपकली महिलाओं के ऊपर गिरने का प्रभाव :

  • सिर – विवाद या क्लेश होने का संकेत देता है
  • सर के बीच में – मौत का डर या किसी के मौत या दुखद समाचार.
  • बाल या बाल की गाँठ – बीमारी के बारे में चिंता.
  • बायां आँख – लव और रोमांस का अच्छा समय है.
  • दाहिनी आंख – मानसिक तनाव पैदा करता है.
  • दाहिने गाल – गर्भवती महिलाओं को लड़का होने वाला है.
  • दाहिने कान का ऊपरी हिस्सा – वित्तीय लाभ या धन लाभ.
  • ऊपरी होंठ – विवादों के लिए तैयार रहो.
  • निचले होंठ – कोई नई चीजें मिलने वाली है.
  • दोनों होंठ – एक साथ झगड़ा या विवाद होने वाला है.
  • पीठ – किसी के मौत या दुखद समाचार.
  • नाखून – आपकी परेशानियां बढ़ने वाली है.
  • हाथ – वित्तीय या धन लाभ की उम्मीद.
  • बाएँ हाथ – मानसिक तनाव पैदा होना.
  • उंगलियां – नए गहने या आभूषण मिलने की सम्भावना है .
  • दाहिने हाथ – लव, रोमांस.
  • कंधे – गहने या आभूषण मिलना.
  • जांघों – रोमांस की अपेक्षा.
  • घुटनों – प्यार और स्नेह.
  • टखने – परेशानी बढ़ने वाली है.
  • पैर के पीछे – मेहमान आने वाले है.
  • दाहिना पैर – हारना या हानि
  • पैर की उंगलियों – लड़का पैदा होना

 


 

छिपकली गिरने से होने वाले अपशकुन से बचने का मंत्र इस प्रकार है.

जब कभी भी शरीर पर छिपकली गिर जाती है तो अपशकुन के निवारण हेतु, सबसे पहले स्नान कर इस मंत्र 108 बार या 21 बार अवश्य जाप करें :

बीज मंत्र :

|| ॐ नमः शांते प्रशांते ॐ || Om Namah Shante Prashante Om
|| हीं हीं सर्व क्रोध प्रशमनी स्वाहा || Hrim Hrim Serv Krodh Prashmani Swaha

ऊपर दिया गया बीज मंत्र लाभप्रद है एवं अशुभ प्रभाव को क्षीण करते हैं और मंगल होता है.

Comments


log in

Don't have an account?
sign up

reset password

Back to
log in

sign up

Captcha!
Back to
log in