दुनिया के 10 सबसे ज्यादा कैशलेस देश


दुनिया के 10 सबसे ज्यादा कैशलेस देश

हाल ही में हुए भारत में नोट बंदी के बाद अब कैशलेस व्यवस्था पर बहुत ही जोड़ो और सोरो से बढ़ावा दिया जा रहा है. मास्टर कार्ड कैशलेस जर्नी नाम की एक रिपोर्ट में यह बताया गया है कि दुनिया की सबसे ज्यादा कैशलेस अर्थव्यवस्थाओं वाला देश कौन-कौन से हैं और यहां पर कितने प्रतिशत लोग कैशलेस पर निर्भर है. आइए जानते हैं ऐसे कौन से देश है जहां पर सबसे ज्यादा कैशलेस पर जोड़ दिया जाता है.

दक्षिण कोरिया :
एशियाई देशों में दक्षिण कोरिया एकमार्त ऐसा देश है जो इस लिस्ट में शामिल है. जो एशिया का पहला और विश्व का दसवां ऐसा देश है जहां पर सबसे ज्यादा कैशलेस पर लोग निर्भर है. दक्षिण कोरिया में 70% पेमेंट कैशलेस होता है इस देश की 58 % आवादी के पास क्रेडिट/डेबिट कार्ड है

जर्मनी :
जर्मनी यूरोप की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में से एक है और मास्टर कार्ड कैशलेस जर्नी रिपोर्ट के मुताबिक विश्व के नवम स्थान इस देश का नाम है. यहां की 70% भुगतान कैशलेस यानी कार्ड के द्वारा की जाती है और 88 पर्सेंट आबादी के पास डेबिट कार्ड है.

अमेरिका :
अमेरिका का स्थान रिपोर्ट के मुताबिक आठवीं पायदान पर है. यहां पर 72 प्रतिशत लोगों के पास डेबिट कार्ड है जबकि कुल कंजूमर पेमेंट पर 80% पेमेंट कैशलेस होता है.

नीदरलैंड :
नीदरलैंड में कैशलेस सिस्टम ने काफी प्रगति कर लिया यहां पर कुल कंजूमर पेमेंट का 85% पेमेंट कैशलेस हो रहा है और सबसे बड़ी बात यह है कि 98 प्रतिशत लोगों के पास डेबिट कार्ड है. आपको यह जानकर आश्चर्य होगा की नीदरलैंड की राजधानी एम्स्टर्डम में पार्किंग वाले भी कैश नहीं लेते उन्हें भी कार्ड से ही पेमेंट करना होता है

स्वीडन :
इस लिस्ट में स्वीडन 5वे नंबर पर है जहां कंज्यूमर पेमेंट का 89 प्रतिशत हिस्सा कैशलेस होता है और देश के 96 प्रतिशत लोगों के पास डेबिट कार्ड है. स्वीडन में 2008 में 110 बैंक डकैतियां हुई थी जो घट कर 2011 में इसकी संख्या महज 16 रह गई . इसकी वजह यह है बैंकों में बहुत ही कम कैश का होना

ब्रिटेन :
इस देश के 88 प्रतिशत लोगों के पास डेबिट कार्ड है और इनमें से 89 प्रतिशत कंजूमर पेमेंट कैशलेस होता है. अगर आप लंदन जाएं और वहां पर आपको डबल डेकर बस में चढ़ने का मौका मिला तो इस से पहले आप सुनिश्चित कर लें कि आपके पास प्रीपेड टिकट या ओइस्टर कार्ड है क्योंकि यहां की बसों में कैश नहीं चलता वैसे देखा जाए तो पूरे ब्रिटेन में ही कैश का चलन घटता जा रहा है

कनाडा :
कनाडा में 2013 से ही सेंट के सिक्के बनने बंद हो गए थे और यहां पर कैशलेस पर ज्यादा से ज्यादा जोर दिया जा रहा है इस देश के 88% लोगों के पास डेबिट कार्ड है और इनमें से 90% कंजूमर पेमेंट कैशलेस ही होता है

फ्रांस :
फ्रांस में 3000 से ज्यादा यूरो का लेन देन करना जुर्म है फ्रांस के 69 प्रतिशत लोगों के पास डेबिट कार्ड है जिनमें से 92 प्रतिशत कंजूमर पेमेंट कैशलेस ही होता है

बेल्जियम :
बेल्जियम इस लिस्ट में पहले स्थान पर है और यह दुनिया का सबसे ज्यादा कैशलेस वाला देश है जहां पर लगभग 93 प्रतिशत कंजूमर पेमेंट कैशलेस होता है और इस देश की 86 प्रतिशत आबादी के पास डेबिट कार्ड है और यहां पर भी यूरो का 3 हजार से ज्यादा लेनदेन करना मना है

Comments


log in

Don't have an account?
sign up

reset password

Back to
log in

sign up

Captcha!
Back to
log in