जानें, इंसान के शरीर से जुड़ी कुछ राज की बातें


जानें, इंसान के शरीर से जुड़ी कुछ राज की बातें
thumbnail-caption

ईश्वर का बनाया हुआ हमारा शरीर अद्भुत और आश्चर्य से भरा पड़ा है. हमारा यह शरीर इतना जटिल है कि उसकी संरचना को समझना हर किसी के बस की बात नहीं होती, क्योंकि हमारा शरीर किसी मशीन या फैक्ट्री से कम नहीं. आज हम आपको हमारे शरीर से जुड़ी कुछ रोचक बातें बताएंगे जिन्हें जानकर आप आश्चर्यचकित होने से खुद को रोक नहीं पाएंगे.

Jaane, insan ke sharir se judi kuch raaj ki baaten – rochak tathya

फेफड़े

हमारे शरीर में फेफड़े का काफी महत्वपूर्ण स्थान है. आपको विश्वास ना हो लेकिन शरीर में मौजूद फेफड़े प्रतिदिन लगभग 20 लाख लीटर हवा को फिल्टर करते हैं. आपको जानकर हैरानी होगी कि अगर फेफड़ों को खींचा जाए तो ये एक टेनिस कोर्ट के हिस्से को ढंक सकता है.

शरीर जैसी कोई दूसरी फैक्ट्री नहीं

हमारा ये शरीर हर सेकेंड्स लगभग 2.5 करोड़ कोशिकाओं का निर्माण करता रहता है. और हर रोज लगभग 200 अरब से भी ज्यादा रक्त कोशिकाओं का निर्माण करता है. इस बात की जानकारी शायद आपको हो की एक बूंद खून में लगभग 25 करोड़ कोशिकाएं मौजूद होती हैं.

खून की रफ्तार

हमारे शरीर में करीब 5.6 लीटर खून मौजूद रहता है जो इतनी तेज रफ्तार से दौड़ता है कि प्रति 20 सेकंड में वह पूरे शरीर में घूम जाता है. आपको यकीन ना हो लेकिन हमारे शरीर का खून हर रोज शरीर में लगभग 1,92,000 किलोमीटर का सफर तय करता है.

धड़कन

इंसान का स्वस्थ दिल हर रोज लगभग 1,00,000 बार धड़कता है. इस तरह साल भर में हमारा दिल लगभग 3 करोड़ से भी ज्यादा बार धड़कता है. दिल का पंपिंग प्रेशर बहुत हीं ज्यादा तेज होता है, जो खून को 30 फुट तक ऊपर उछालने में कारगर हो सकता है.

आंखो जैसी कोई दूरबीन नहीं

हमारी आंखे इतनी तेज़ हैं कि करोड़ो रंगों में भी अंतर का पता आसानी से लगा सकती है. बता दें कि आज तक ऐसी किसी भी मशीन का निर्माण कर पाने में वैज्ञानिक सक्षम नहीं हो पाए हैं.

नाक में एयर कंडीशनर

आपको हैरानी होगी कि हमारा नाम एक प्रकृति एयर कंडीशनर का काम करता है, जो बाहर से गर्म हवा को ठंडा और ठंडी हवा को गर्म कर फेफड़ों तक पहुंचाने का काम करता है.

शरीर में पानी

दोस्तों हमारे इश्क शरीर में 70 फ़ीसदी मात्रा पानी की है और इसके अलावा बड़ी मात्रा में जिंक, कोबाल्ट, कार्बन, कैल्शियम, फॉस्फेट, मैग्नीशियम, निकिल और सिलिकॉन होते हैं.

छींक

छींक की रफ्तार 166 से 300 किलोमीटर प्रतिघंटा की होती है. और इसकी एक और खास बात ये होती है कि आंखें खोलकर छींकना हमारे लिए असंभव है.

मजबूत दांत

हमारे शरीर का सबसे मजबूत अंग है दांत. ये चट्टान जैसी मजबूती लिए हुए होती है.लेकिन हमारे शरीर के दूसरे हिस्से जहां खुद की मरम्मत कर पाने में सक्षम है, वहीं दातों के साथ ऐसी बात नहीं होती. वो अगर एक बार खराब हो गए तो दिन-ब-दिन कमजोर होते चले जाते हैं. और वो खुद की मरम्मत नहीं कर पाते.

मुंह की लार

प्रतिदिन हमारे मुंह में लगभग 1.7 लिटर लार बनती है, जो हमारे भोजन को पचाने में और जीभ की लगभग 10,000 से भी ज्यादा स्वाद ग्रंथियों को नम बनाए रखने में कारगर है.

झपकती पलकें

पलकें इसलिए झपकती हैं ताकि आंखों से पसीना बाहर निकल सके और आंखों में नमी बनी रहे. एक और खासियत ये है कि महिलाओं की पलकें पुरुषों के पलकों की अपेक्षा दोगुनी बार झपकती हैं.

नाख़ून बढ़ने की स्पीड

आप इस बात को सोचते होंगे कि आपके सभी उंगलियों के नाखून एक की रफ्तार से बढ़ते हैं. जबकी अंगूठे का नाखून सबसे कम रफ्तार से बढ़ता है और आपके बीच के उंगली के नाखून बढ़ने की रफ्तार सबसे ज्यादा तेज होती है.

खाने पर व्यतीत समय

साधारण तौर पर एक इंसान अपनी पूरी जिंदगी में लगभग 5 साल खाना खाने में बिताता है. अपनी पूरी जिंदगी में इंसान लगभग 7,000 गुना ज्यादा खाना खा जाता है.

तंत्रिका तंत्र की रफ्तार

हमारे मस्तिष्क में 100 अरब से भी ज्यादा तंत्रिका कोशिकाएं पाई जाती हैं. तंत्रिका तंत्र की बात करें तो ये 400 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हमारे पूरे शरीर के दूसरे हिस्से तक आवश्यक निर्देश पहुंचाता है.

Also Read : सिर्फ ताली बजाने से ठीक हो जाएंगी ये 6 बीमारियां!

बैक्टीरिया

हमारे शरीर के वजन का लगभग 10 फ़ीसदी हिस्सा शरीर में मौजूद बैक्टीरिया की वजह से होता है. बता दें कि 1 वर्ग इंच त्वचा मे लगभग 3.2 करोड़ बैक्टीरिया मौजूद होते हैं.

हमारे शरीर से जुड़े इन तथ्यों को जानकर तो ये निश्चित रूप से कहा जा सकता है, कि ईश्वर की लीला अपरंपार है.

Also Read : अगर आप भी नाक में उंगली करते हैं तो ये खबर आपके लिए हीं है!

Loading...

Comments


log in

Don't have an account?
sign up

reset password

Back to
log in

sign up

Captcha!
Back to
log in