मुखमैथुन करना चाहिए या नहीं, जानिए मुखमैथुन के फायदे और नुकशान !


मुखमैथुन करना चाहिए या नहीं, जानिए मुखमैथुन के फायदे और नुकशान !
thumbnail-caption

दोस्तों अगर दोनों साथी स्वस्थ हो तो मुख मैथुन बिल्कुल गलत नहीं है. इस सवाल का कोई सुनिश्चित उत्तर भी नहीं हो सकता. क्योंकि, यह बात पूर्ण रुप से दोनों साथियों पर निर्भर करते हैं कि वह क्या पसंद करते हैं. अगर दोनों साथियों को कोई संक्रमण नहीं है और वह अपने इन (गुप्तांग) अंगों को साफ रखते हैं तो मुखमैथुन करने में कोई बुराई नहीं है.

मुखमैथुन से संभोग का आनंद दोगुना हो जाता है और नारी को उत्तेजित करने में बहुत सहायता मिलती है. नारी की भग्नासा जिसे इंग्लिश में क्लाइटोरिस भी कहते हैं, बहुत संवेदनशील होती है. जैसा कि नर का लिंग मुंड, इसे चूसने से नारी बहुत जल्दी उत्तेजित हो जाती है.

Also Read : वेजिटेरियन सेक्स से बदल सकती है आपकी जिंदगी!

जिन पुरुषों में शीघ्रपतन की समस्या हो वे अपने पार्टनर को मुखमैथुन जरूर दे. इससे महिला चरम आनंद पर जल्दी पहुँच जाएँगी और आप शीघ्रपतन की समस्या के बाबजूद अपने पार्टनर को संतुष्ठ कर पाएंगे.

mukhmaithun

मुखमैथुन फोरप्ले का एक बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा होता है. जिन्हें पसंद हो, उन्हें जरूर करना चाहिए. ओरल सेक्स को भारत में घ्रणित और निंदनीय समझा जाता है. लेकिन इसके बावजूद लोग इसे कभी ना कभी आजमाते जरूर है. इसके बारे में भी कहा जाता है कि इससे संक्रमण या बीमारियां भी हो सकती है. आपने सुना होगा कि लोग ओरल सेक्स करते समय कोई सावधानी नहीं बरतते. लेकिन अगर आप ओरल सेक्स के दौरान सावधानी बरतेंगे तो निश्चित तौर पर हर तरह के इंफेक्शन से बचे रहें. इतना ही नहीं सीमन यानी वीर्य के मुंह में जाने से ना सिर्फ आपकी जीभ का टेस्ट खराब हो जाता है बल्कि वीर्य बहुत देर तक मुंह में रहने से आपकी जीभ सुन्न भी हो सकती है.

Also Read : सेक्स ऑफर ठुकराने पर यहाँ की महिलाएं कर देती है मुह में पेशाब !

तो दोस्तों, आपको हमारा ये आर्टिकल कैसे लगा आप हमें कमेंट कर के जरूर बताएं. और आपको सेक्स संबंधी कोई भी समस्या या जिज्ञासा हो तो बेझिझक आप अपना सवाल कर सकते है. हमारी कोशिश होगी की आपके प्रश्नों के उत्तर दे और हमें ख़ुशी होगी की आप हमारे माध्यम से कुछ सिख पाएं.

Loading...

Comments


log in

Don't have an account?
sign up

reset password

Back to
log in

sign up

Captcha!
Back to
log in