पौराणिक कहानी के अनुसार सेक्स कौन ज्यादा एंजॉय करता है स्त्री या पुरुष ?


पौराणिक कहानी के अनुसार सेक्स कौन ज्यादा एंजॉय करता है स्त्री या पुरुष ?
thumbnail-caption
आज हम आपको बताएंगे पुराणों के अनुसार सेक्स कौन ज्यादा एंजॉय करता है स्त्री या पुरुष. इसके बारे में दो पौराणिक कहानियां बहुत प्रसिद्ध हैं. तो चलिए बताते हैं आपको अपनी इस आर्टिकल में इस रहस्य के बारे में. दोस्तों यह काफी बहस है कि संभोग के वक्त स्त्री या पुरुष में से कौन ज्यादा आनंद उठाता है. इस बारे में सब के अलग अलग मत हो सकते हैं. हिंदुओं के प्रसिद्ध धर्म ग्रंथ महाभारत और ग्रीक यानि यूनान के धर्म ग्रंथ में इस प्रश्न का जवाब देती दो कथाएं हैं और आश्चर्यजनक रूप से दोनों पौराणिक कथाओं का निष्कर्ष एक ही हैं.

आज हम चर्चा करेंगे दोनों कथन के बारे में. तो चलिए पहले बात करते है महाभारत से जुडी कहानी के बारे में. एक बार की बात है युधिस्ठिर भीष्म पितामह के पास जाते है और कहते है हे तातश्री क्या आप मेरी एक दुविधा सुलझाएंगे क्या आप सच सच बताएंगे की स्त्री या पुरुष दोनों में से कौन सम्भोग के समय ज्यादा आनंद प्राप्त करते है. भीष्म बोले इस सम्बन्ध में मैं तुम्हे भंगस्वाना और सकरा की कथा सुनाता हूं. जिसमें तुम्हारे सवाल का जवाब छुपा है. बहुत समय पहले की बात है भंगस्वाना नाम का एक राजा रहता था. वह न्याय प्रिय और बहुत यशस्वी था लेकिन उसके कोई पुत्र नहीं थे. एक बालक की इक्षा में उस राजा ने एक अनुष्ठान किया जिसका नाम था अग्निस्तुता, क्योंकि उस हवन में केवल अग्नि भगवान का आदर हुआ था. इसलिए देवराज इंद्र काफी क्रोधित हो गए. इंद्र अपने गुस्से को निकालने के लिए एक मौके ढूंढे रखें ताकि राजा भंगस्वाना से कोई गलती हो और वह उसे दंड दे सके. पर भंगस्वाना इतना अच्छा राजा था कि इंद्र को कोई मौका ही नहीं मिल रहा था. जिस कारण से इंद्र का गुस्सा और बढ़ता जा रहा था.

एक दिन राजा शिकार पर निकला इंद्र ने सोचा यह सही समय है राजा से अपना बदला लेने का और इंद्र ने राजा को सम्मोहित कर दिया. राजा भंगस्वाना जंगल में इधर उधर भटकने लगे अपनी सम्मोहित हालत में वह सब सुध खो बैठे थे. ना उन्हें दिशाएं समझ आ रही थी और ना ही अपने सैनिक दिख रहे थे. भूख प्यास ने उन्हें और व्याकुल कर दिया था. अचानक उन्हें एक छोटी सी नदी दिखाई थी जो किसी जादू सी समुंदर लग रही थी. राजा उस नदी के तरफ बढ़े और पहले उसने अपने घोड़े को पानी पिलाया फिर खुद पिया. जैसे ही राजा नदी के अंदर प्रवेश किया पानी पिया उसने देखा कि वह बदल रहा है. धीरे-धीरे वह एक स्त्री में बदल गया. शर्म से बोझल वह राजा जोर-जोर से विलाप करने लगा. उसे समझ नहीं आ रहा था कि ऐसा उसके साथ क्यों हुआ.

राजा भंगस्वाना सोचने लगा हे प्रभु इस अनर्थ के बाद कैसे अपने राज्य वापस जाऊं. मेरे अग्निस्तुता अनुष्ठान से 100 पुत्र हुए हैं. उन्हें अब मैं कैसे मिलूंगा क्या कहूंगा मेरी रानी महारानी जो मेरी प्रतीक्षा कर रही है उनसे कैसे मिलूंगा. मेरे पौरुष के साथ साथ मेरा राज पाठ सब चला जायेगा. मेरी प्रजा का क्या होगा? इस तरह से विलाप करता राजा अपने राज्य वापस लौटा. स्त्री रूप में राजा जब वापस पहुंचे तो उसे देख सभी लोग अचंभित रह गए. राजा ने सभा बुलाई और अपनी रानियों पुत्रों और मंत्रियों से कहा कि अब मैं राजपाट संभालने के लायक नहीं हूं. तुम सभी लोग यहां सुख से रहो और मैं जंगल में जाकर अपना बाकी का जीवन बताऊंगा.
ऐसा कहकर वह राजा जंगल की तरफ प्रस्थान कर गए. वहां जाकर स्त्री रूप में एक तपस्वी के आश्रम में रहने लगी. जिसने उसने कई पुत्रों को जन्म दिया. अपने पुत्रों को वह अपने पुराने राज्य ले गयी और अपने पुराने बच्चों से बोली तुम मेरे पुत्र हो जब मैं एक पुरुष था यह मेरे पुत्र है जब मैं स्त्री हूं.मेरे राज्य को मिलकर भाइयों की तरफ संभालो. सभी भाई मिलकर रहने लगे.

सबको सुखी से जीवन व्यतीत करता देवराज इंद्र और ज्यादा क्रोधित हो गए और उनमें बदले की भावना फिर जाने लगी. इंद्र सोचने लगे कि ऐसा लगता है कि राजा को स्त्री में बदलकर मैंने उसके साथ बुरे की जगह अच्छा कर दिया है. ऐसा कह कर इंद्र ने एक ब्राह्मण का रूप धरा ( बदलकर) और पहुंच गया भंगस्वना के राज्य में. वहां जाकर उसने सभी राजकुमारों के कान भरने ( भड़काने ) शुरू कर दिए. इंद्र के भड़काने की वजह से सभी भाई आपस में लड़ पड़े और एक दूसरे को मार डाला.

जैसी ही भंगस्वना को इस बात का पता चला तो वह शोकाकुल हो गया. ब्राह्मण के रूप में इंद्र राजा के पास पहुंचा और पूछा वह क्यों रो रही है. भंगस्वना ने रोते-रोते पूरी घटना इंद्र को बताइ. तो इंद्र ने अपना असली रूप दिखाकर राजा को उसकी गलती के बारे में बताया. इंद्र ने कहा क्योंकि तुमने सिर्फ अग्नि देव को पूजा और मेरा अनादर ( तिरस्कार ) किया है इसलिए मैंने तुम्हारे साथ यह खेल रचा ( खेला ). यह सुनते ही भंगस्वाना इंद्र के पैरों में गिर पड़ा. अपने अनजाने में किए अपराध के लिए क्षमा मांगी. राजा की ऐसी दयनीय दशा देख इंद्र को दया आ गई, राजा को माफ करते हुए उनके पुत्रों को जीवित होने का वरदान दे दिया. इंद्र बोले हे स्त्री रुपी राजन अपने बच्चों में से किसी एक को जीवित कर लो. भंगस्वना ने इंद्र से कहा अगर ऐसी बात है तो मेरी उन पुत्रों को जीवित कर दो जिन्हें मैंने स्त्री की तरह पैदा किया है. हैरान होते हुए इंद्र ने इसका कारण पूछा. तो राजा ने जवाब दिया की हे इंद्र एक स्त्री का प्रेम एक पुरुष के प्रेम से बहुत अधिक होता है इसलिए मैं अपनी कोख से जन्मे बालकों का जीवन दान मानती हूं.

भीष्म ने इस कथा को आगे बढ़ाते हुए युधिस्ठिर को कहा कि इंद्र यह सब सुनकर प्रसन्न हो गए और उन्होंने राजा के सभी पुत्र को जीवित कर दिया. उसके बाद इंद्र ने राजा को दोबारा पुरुष रूप देने की बात की. इंद्र बोले तुम से खुश होकर हे भंगस्वना मैं वापस तुम्हें पुरुष बनाना चाहता हूं. पर राजा ने साफ मना कर दिया. स्त्री रुपी भंगस्वना बोला हे देवराज इंद्र मैं स्त्री रूप में ही खुश हूं और स्त्री ही रहना चाहता हूं. यह सुनकर इंद्र उत्सुक हो गए और पूछ बैठे कि ऐसा क्यों राजन. क्या तुम वापस पुरुष बनकर अपना राजपाठ नहीं संभालना चाहते. भंगस्वना बोला क्योंकि संभोग के समय स्त्री को पुरुष से कई गुना ज्यादा आनंद तृप्ति और सुख मिलता है इसलिए मैं स्त्री ही रखना चाहूंगा. इंद्र ने तथास्तु कहा और वहां से प्रस्थान कर गए. भीष्म बोले हे युधिष्ठिर यह बात स्पष्ट है कि स्त्री को संबंधों के समय पुरुष से ज्यादा सुख मिलता है.


ऐसी एक कहानी का वर्णन ग्रीक धर्म ग्रंथों में हैं. चलिए जानते है ग्रीक धर्म ग्रंथों के अनुसार शारीरिक संबंध में कौन ज्यादा आनंद उठाता है ?

ग्रीक माइथोलॉजी मैं तिरेसिआस की कहानी के बारे, दोस्तों तिरेसिआस नाम का एक राजा अपने युवा दिनों में एक बार जंगल में शिकार करने गया. वहां उसने दो सापों को संभोग करते समय लिपटे हुए देखा. तिरेसिआस को ना जाने क्या सूझा उसने अपने सिपाहियों की मदद से उन विशाल सांपों को अलग करवा दिया. ऐसा करवाते ही उसे श्राप मिला की उसका पौरुष चला जाएगा और वह एक महिला में तब्दील हो गया. उन सापों का क्या हुआ इस बारे में कुछ पता नहीं है. कई साल बाद तिरेसिआस अपने स्त्री रूप में दोबारा उसी जंगल से गुजरा.अपनी नफरत के चलते उसने अपने सिपाहियों की मदद से दोबारा एक सांप के जोड़े को अलग अलग कर दिया. इस बार कैसा करते ही वह पुरुष बन गया अब वह अपनी तरह का एक ऐसा अकेला व्यक्ति था जिसने कि स्त्री और पुरुष दोनों का जीवन जिया था.
उसी समय ग्रीक भगवान ज़ीउस और उनकी पत्नी हेरा में विवाद चल रहा था कि सेक्स कौन ज्यादा एंजॉय करता है स्त्री या पुरुष. उन्होंने तिरेसिआस को बुलावा भेजा, तिरेसिआस ने ज़ीउस और हेरा के सवाल का एक दम सीधा और सटीक जवाब दिया. महिलाएं पुरुषों से 9 गुना ज्यादा सेक्स का आनंद उठाती है. इस जवाब से हेरा बहुत नाराज हो गई और उन्होंने तिरेसिआस पर ऐसा वार किया कि वह अंधा हो गया. ज़ीउस अपने आप को तिरेसिआस के अंधेपन के लिए जिम्मेदार मानने लगे और उन्होंने उसको भविष्य देखने का वरदान दे दिया.


लगभग दुनिया की हर संस्कृति में ऐसे देवी देवता है जो स्त्री-पुरुष का संबंध खूबसूरती से दर्शाते हैं. भारत में ऐसी प्रतिमा है अर्धनारीश्वर की, अर्धनारीश्वर का मतलब यह हुआ कि आपका ही आधा व्यक्तित्व आपकी पत्नी और आपका ही आधा व्यक्तित्व आपका पति हो जाता है. आपकी ही आधी उर्जा स्त्रैण आदि पुरुष हो जाती है और तब इन दोनों के बिच जो रस और लीनता पैदा होती है तो उस शक्ति का कहीं कोई विसर्जन नहीं होता हे.

आशा करता हूं आप को हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा.

pauranik purano kahaniyan ke anusar sex sabse jyada kaun enjoy karta hai stri aur purush

Loading...

Comments


log in

Don't have an account?
sign up

reset password

Back to
log in

sign up

Captcha!
Back to
log in