तुलसी से घर में आती है सुख-समृद्धि, जानें किस दिशा में लगाना रहेगा शुभ


तुलसी से घर में आती है सुख-समृद्धि, जानें किस दिशा में लगाना रहेगा शुभ

तुलसी का धार्मिक और आयुर्वेदिक दोनों हीं दृष्टिकोण से काफी महत्वपूर्ण है. हिंदू धर्म में तुलसी के पौधे की पूजा अर्चना करना परिवार में सुख समृद्धि लाने वाला होता है. जबकि आयुर्वेद में भी तुलसी के पत्ते का काफी महत्वपूर्ण स्थान है. तुलसी की पत्तियों के सेवन से लोगों को कई तरह की बीमारियों से निजात मिल जाती है. प्राचीन काल से हींं तुलसी के पौधे को घर के आंगन में लगाया जाता रहा है. हिंदू धर्म में तुलसी के पौधे को बहुत हीं धार्मिक और पवित्र पौधा माना गया है.

ज्योतिष पुराण के अनुसार घर में तुलसी का पौधा लगाना बहुत हीं ज्यादा सुखदाई होता है. भगवान कृष्ण के भोग में तुलसी के पत्ते को रखना आवश्यक बताया गया है. हर रोज तुलसी के पौधे के पास दीपक जलाना चाहिए. इससे परिवार में सुख-समृद्धि बनी रहती है. ज्योतिष के अनुसार कार्तिक मास में तुलसी का पौधा लगाया जाए तो इसका महत्व कई गुना बढ़ जाता है.

घर के इस दिशा में लगाएं तुलसी का पौधा
दोस्तों, तुलसी के पौधे को आप घर के पूर्व दिशा, उत्तर दिशा या फिर उत्तर-पूर्व दिशा में हीं लगाएं. लेकिन गलती से भी तुलसी के पौधे को घर के दक्षिण दिशा में ना लगाएं. आपके आंगन की तुलसी का पौधा सूख जाए, तो उसे किसी कुएं या फिर किसी पवित्र स्थान पर अर्पित कर दें. और उस पौधे की जगह नए पौधे लगाएं. ध्यान रखें कि अगर तुलसी के पौधे की कुछ पत्तियां भी खराब हो जाए तो उसे पौधे से हटा दें.

तुलसी के पत्तों में रोग प्रतिरोधक क्षमता होता है
दोस्तों, ये बात तो शायद आपको पता हो कि तुलसी की पत्तियों में रोग प्रतिरोधक क्षमता भरपूर मात्रा में पाई जाती है. तुलसी के पत्ते का प्रतिदिन सेवन करते रहना आपके रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है. नित्य रूप से इसका सेवन करना फ्लू और सर्दी-जुकाम जैसी बीमारियों को ठीक करता है. रिसर्च की मानें तो तुलसी के पत्तों में कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी को भी खत्म करने के गुण मौजूद होते हैं. ना सिर्फ तुलसी के पत्ते बल्कि तुलसी के बीज का सेवन भी बहुत हींं ज्यादा फायदेमंद है. तुलसी के बीज के नित्य सेवन से नपुंसकता से भी निजात मिल जाती है.

सुबह के समय हीं तोड़ने चाहिए तुलसी के पत्ते
तुलसी के पत्ते को सिर्फ सुबह के समय हीं तोड़ें. मान्यता है कि सुबह के अलावा किसी भी दूसरे समय में तुलसी के पत्ते नहीं तोड़ने चाहिए.

बासी नहीं होते तुलसी के पत्ते
तुलसी के पत्ते तोड़ने के कई दिनों बाद तक भी बासी नहीं होते. इसे बार-बार धोकर भी आप देवताओं को चढ़ा सकते हैं. कहा जाता है कि रविवार के दिन आप तुलसी के पौधों में जल चढ़ा सकते हैं. लेकिन रविवार को तुलसी के पास दीपक ना जलाएं. देवताओं में भगवान गणेश और माता दुर्गा को तुलसी के पत्ते नहीं चढ़ाने चाहिए. और इस बात का भी खास ध्यान रखें कि जहां भी आप तुलसी के पौधे लगाएं वहां साफ-सफाई का पूरी तरह ध्यान रखें.

Comments


log in

Don't have an account?
sign up

reset password

Back to
log in

sign up

Captcha!
Back to
log in