लौंग के फायदे और घरेलु नुस्खे ऐसे की बीमारी होगी छूमंतर !


लौंग के फायदे और घरेलु नुस्खे ऐसे की बीमारी होगी छूमंतर !
लौंग के फायदे और घरेलु नुस्खे ऐसे की बीमारी होगी छूमंतर !

दोस्तों आज हम बात करेंगे लौंग के बारे में, लौंग का धार्मिक दृष्टि से बहुत ही महत्व है. क्योंकि किसी भी पूजा अनुष्ठान में लौंग का जोड़ा अर्पित किया जाता है. लौंग को घी के साथ मिलाकर पूजा करते हैं. दोस्तों लौंग सुगंधित होने के कारण सभी स्त्री पुरुष पसंद नहीं करते हैं. लौंग से बहुत ही प्राकृतिक औषधियां बनती है. आइए हम जानते हैं आज उनके बारे में.

  • लोगों को पानी के साथ पीसकर शहद में मिलाकर चाटने से खसरे के रोग में बहुत ही लाभ होता है.
  • लौंग को पानी के साथ पीसकर सिर और कनपट्टियों पर लेप करने से स्नायविक यानि के मस्तक शूल खत्म होता है.
  • लौंग और हरड़ को पानी में खूब देर तक उबालकर क्वाथ यानि काढ़ा बना कर थोड़ा सा सेंधा नमक मिलाकर पीने से अजीर्ण में बहुत ही फायदा होता है.
  • लौंग को 200 ग्राम पानी में देर तक उबाले 50 ग्राम पानी बाकी रह जाने पर उसे छान कर पीने से वायु विकार और पेट दर्द शांत हो जाता है.
  • बस व रेल में, लंबे सफर के समय अगर आपको मिचली या उल्टी होने लगे तो एक लौंग मुह में रख करके बैठ जाए. दोस्तों मिचली आनी बंद हो जाएगी.
  • लौंग और हल्दी को पीस कर लगाने से नासूर में बहुत फायदा होता है.
  • लौंग के तेल की सिर पर मालिश करने से सिर दर्द खत्म हो जाता है.
  • लौंग को आग पर भूनकर कूट-पीसकर चूर्ण बनाकर मधु (शहद) मिलाकर चाटने से कुकुर खांसी यानी की काली खांसी में बहुत ही लाभ होता है.
  • लौंग को जल में उबालकर छानकर थोड़ा थोड़ा पानी पिलाने से है हैजे की विकृति में उल्टी का प्रकोप शांत होता है, मूत्र अधिक निष्कासित होता है.
READ  यह 5 जड़ी बूटियां बना सकती है आपके दिमाग को कंप्यूटर से भी तेज!

Also Read : सभी दवाईयो से ज्यादा असरदार बासी चावल !

  • शरीर के किसी भी भाग पर शोध होने पर लौंग का तेल मलने से भी चमत्कारिक लाभ होता है.
  • लौंग को मुह में रख कर चूसने से मुह और सांस की बदबू दूर हो जाती है.
  • लौंग को मुह में रख कर उसका रस चूसने से खांसी खत्म होती है. जब तक मुह में लौंग रहती है तब तक खांसी बंद रहती है.
  • लौंग के तेल की कुछ बूंदें किसी स्वच्छ कपड़े के टुकड़े पर टपकाकर उस कपड़े को बार-बार सूंघने से जुखाम की समस्या ठीक हो जाती है. साथ ही नाक भी बंद नहीं होता है और नाक अगर बंद हो तो खुल जाती है.
  • वात विकार व संधिशूल यानि की जोड़ो के दर्द में लौंग का तेल मलने से पीड़ा खत्म होती है.
  • लौंग को पानी के साथ पीसकर सौ ग्राम पानी में मिलाकर छानकर मिश्री मिलाकर पीने से हृदय की जलन विकृति दूर होती है. पेट में जलन होना बंद हो जाता है.
  • लौंग के तेल की एक-दो बूंदें बताशे पर डालकर खाने से हैजे की विकृति दूर हो जाती है.
  • लौंग को पानी के साथ पीसकर हल्के गर्म पानी में मिलाकर पीने से जी मिचलाना बंद हो जाता है और ज्यादा प्यास लगना भी बंद हो जाता हैं.

Also Read : ये दस 10 लक्षण बता देते है, हार्ट अटैक कब आने वाला है !

  • लौंग को बकरे के दूध में घिसकर नेत्रों में काजल की तरह लगाने से रतौंधी रोग ठीक हो जाता है.
  • एक रत्ती लौंग को पीसकर मिश्री की चासनी में मिलाकर चाटकर खिलाने से गर्भवती स्त्री की उल्टियां बंद हो जाते हैं.
  • लौंग और चिरायता दोनो बराबर मात्रा में पानी के साथ पीसकर पिलाने से बुखार खत्म हो जाता है.
  • लौंग जीवन शक्ति के कोशों को पोषण करता है इसी कारण लौंग टीवी और बुखार में एंटीबायोटिक का काम करता है. यह रक्त शोधक और कीटाणु नाशक होता है. लौंग में मुंह, आते और अमाशय में रहने वाले सूक्ष्म कीटाणु व् सड़न को रोकने के गुण पाए जाते हैं.
READ  कुत्ता काटे या चाटे, दोनों हो सकता है खतरनाक

तो देखा दोस्तों आप सभी ने की, एक लौंग हमारे लिए किस प्रकार से लाभप्रद साबित होती हैं हमारे जीवन में. अगली कड़ी में हम आप सभी से जुड़ेंगे कुछ एक और महत्वपूर्ण जानकारियों को लेकर के या फिर किसी नई औषधि को ले करके तब तक के लिए धन्यवाद् !


Comments 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *

log in

reset password

Back to
log in