इन फिल्मों की कहानियां तो आप जानते होंगे, लेकिन पर्दे के पीछे की ये रोचक बातें नहीं!


दोस्तों फिल्मों की कहानियां जितनी रोचक होती हैं, उससे कहीं ज्यादा रोचक होती हैं पर्दे के पीछे की सच्चाई जिसे कोई स्क्रिप्ट राइटर नहीं लिखता, बल्कि परिस्थिति उसे ढाल देती है.

आइए जानते हैं पर्दे के पीछे की कुछ बहुत हीं रोचक बातें, जिसके बारे में आपने पहले नहीं सुना होगा.

सत्यम शिवम सुंदरम्‘ फिल्म के रिलीज होने से पहले हीं राज कपूर में नॉन वेज और शराब पीने की आदत को छोड़ दिया था. क्योंकि वो ऐसा मानते थे कि ऐसा करने से फिल्म फ्लॉप हो सकती है.

अभिनेता जितेंद्र ने बॉडी डबल से अपने करियर की शुरुआत की थी. वो भी ‘नवरंग‘ फिल्म में अभिनेत्री संध्या के लिए.

वहीदा रहमान एक अकेली अभिनेत्री हैं, जिन्होंने अमिताभ बच्चन की प्रेमिका और मां दोनों का रोल प्ले किया है. फिल्म त्रिशूल में उन्होंने अमिताभ की मां का किरदार निभाया था. जबकि फिल्म अदालत में उनकी प्रेमिका बनी थी.

1960 में बनी फिल्म ‘मुग़ल-ए-आज़म’ इंग्लिश, हिंदी और तमिल तीनों भाषा में बनी थी. इसके लिए सभी सीन को तीन बार शूट किया गया था. लेकिन जब तमिल वाली फिल्म फ्लॉप हो गई तो अंग्रेजी वाली को तुरंत हटा लिया गया था.

इस बात की जानकारी शायद हीं आपको हो की फिल्म ‘शहंशाह’ की कहानी जया भादुड़ी ने लिखी थी.

फिल्म ‘दो आंखें बारह हाथ’ का गाना ‘ए मालिक तेरे बंदे हम’ को पाकिस्तान के एक स्कूल द्वारा बतौर स्कूल एंथम लिया गया था.

मोहम्मद रफ़ी बॉक्सिंग के काफी शौकीन हुआ करते थे. शिकागो यात्रा के दिनों में उन्होंने आयोजकों से मोहम्मद अली से मिलने को कहा था. मोहम्मद अली को जब इस बात की जानकारी हुई, तो खुद हीं मोहम्मद रफी से मिलने उनके होटल आए थे.

फिल्म ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ में शाहरुख खान ने जो लेदर जैकेट पहली थी, वो असल में उदय चोपड़ा की थी, जो उदय ने कैलिफोर्निया में खरीदी थी.

फिल्म शोले के लिए पहले डैनी डेंजोंग्पा को लेने की बात चली थी. क्योंकि जावेद अख्तर का कहना था कि अमजद की आवाज़ गब्बर के किरदार के लिए बहुत पतली है.

फिल्म ‘शोले’ में धर्मेंद्र ठाकुर बलदेव सिंह का रोल प्ले करना चाह रहे थे, लेकिन जब उन्हें इस बात की जानकारी हुई कि हेमा मालिनी वीरू के साथ होगी, तो धर्मेंद्र ने अपना विचार बदल दिया.


0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *