चींटियां अपने वजन से अधिक भार कैसे उठा लेती हैं? जबकि मनुष्य ऐसा नहीं कर पाता!


इंसान के मुकाबले चींटियां अपने वजन से अधिक भार आसानी से उठा लेतीं है। ना सिर्फ उठा लेती हैं बल्कि अधिक भार को उठाकर वो काफी दूर तक आसानी से चल भी लेती हैं। क्या कभी आपने ये सोचा कि जब एक इंसान अपने वजन से अधिक भार नहीं उठा पाता तो भला चींटियां इतनी आसानी से ऐसा कैसे कर लेती हैं?
antइंसानों और चींटियों में भार उठाने के लिए आवश्यक स्थितियों के अनुसार अनेक तरह की भिन्नताएं पायी जाती हैं, जो मनुष्य को कम व चींटियों को अधिक भार उठाने के लिए उत्तरदायी होते हैं। बता दें कि चींटियों के छोटे से शरीर में हज़ारों तरह की पेशियां होती हैं, जबकि इंसानों में ये काफी कम रहती है। चींटियों की पेशियां थकती नहीं है जबकि मनुष्यों की पेशियां जल्द ही थक जाती हैं।
antइंसानों के 2 पैर होते हैं जबकि चींटियों के 6 पैर होते हैं, जो उन्हें अधिक भार उठाने के दौरान शरीर को संतुलित रखने में मददगार होते हैं। तो वहीं इंसानों का आकार बड़ा व चींटियों का आकार छोटा होना भी भार उठाने की क्षमता पर प्रभाव डालता है। गौरतलब है कि आकार के बड़े होने से उसी अनुपात में शक्ति में बढ़ोतरी नहीं होती। आकार के बढ़ने पर शरीर के भार में भी वृद्धि होती है, जिससे इंसान की शक्ति सीमित हो जाती है। ऐसे में अगर चींटी का आकार भी बड़ा होता तो वो भी अपने शरीर से अधिक भार उठा पाने में सक्षम नहीं रहती।

अपने इन्हीं गुणों के कारण चींटियां अपने शरीर के वजन से लगभग 50 गुणा अधिक भार उठा लेती हैं , जबकि इंसान ऐसा नहीं कर सकता।


0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *