क्या आप जानवरों को भोजन देते हैं? नहीं, तो एक बार जरुर पढ़ें


दोस्तों, आज के समय में इंसान कितना अधिक स्वार्थी हो चुका है, इस बात से हम सभी भली-भांती वाकिफ हैं। आज के आधुनिक दौर में हम इंसान ही दूसरे इंसान को देखना नहीं चाहते हैं। ऐसी बात नहीं है कि इस जहां में अच्छाई की कमी है। लेकिन बुराई का प्रभाव इतना अधिक बढ़ चुका है कि हमारे अंदर की इंसानियत विलुप्त सी होती जा रही है।

ये अलग बात है कि लोग अपने परिवार के सदस्य से अधिक जानवरों से प्यार करने लगे हैं। तभी तो अपने पालतू जानवरों पर हर चीज न्योछावर करते हैं। मैं बता दूं कि यहां मैं जिन जानवरों के विषय में बात करने जा रही हूं वो पालतू नहीं बल्कि सड़कों पर यूूं ही जीवन यापन करने जानवर होते हैं, जिन्हें अगर कोई भोजन ना दे तो उन्हें भूखे ही तड़पकर जीना पड़ता है।
Hungry Dogआप खुद सोचिए कि एक तरफ तो आप अपने पालतू जानवर की बच्चों की तरह लालन-पालन करते हैं जबकि वहीं दूसरी तरफ खुलेआम रहनेवाले जानवरों की तरफ आपकी दयावान दृष्टी नहीं जाती। क्या हमने कभी इस बात पर गौर फरमाया कि आखिर भूख के कारण इनका क्या हाल होता होगा?

कुछ दिनों पहले की ही बात है, जब मैं एक खबर पढ़ रही थी। मामला उत्तर प्रदेश के किसी एक इलाके का था। मुझे उस जगह का नाम याद नहीं लेकिन वहां कुत्तों ने ऐसा आतंक मचा रखा था कि लोगों का खुलेआम बाहर निकलना दुष्वार हो चुका था। हर पल लोग इस डर के साए में जीने को मजबूर थे कि बाहर निकलने पर कोई कुत्ता उन्हें काट ना ले। क्योंकि ऐसी कई घटना वहां घटी थी। कई लोगों की तो कुत्तों के काटने की वजह से जान तक चली गई थी। वहीं से एक मामला था किसी शराबी व्यक्ति का जो नशे की हालत में नदी किनारे बेहोश पडा था। वहां के कुत्तों ने उस व्यक्ति को इस कदर नोच डाला कि उसकी मौत हो गई। इस पूरे मामले की जब तहकीकात की गई तो पता चला कि कुत्तों को भरपेट भोजन नहीं मिलने के कारण वो इतने आक्रामक हो चुके हैं। भूख से तड़प रहे कुत्ते किसी के उपर भी हमला करने लगे थे।

READ  ममता बनर्जी ने क्यों नहीं की शादी?, वजह हैरान करनेवाली

ये बेहद चिंता का विषय है कि हम घर में बचे हुए भोजन को फेंक दिया करते हैं लेकिन उसे किसी जरुरतमंद की भूख को मिटाने के उपयोग में नहीं लाते। कुत्ते-बिल्ली तो हर जगह मौजूद होते हैं। उन्हें अगर हर कोई भोजन देता रहे तो यकीनन वे आक्रामक नहीं बनेंगे। और हमेशा आपकी सुरक्षा के लिए तैयार रहेंगे। तो क्यों ना हम आज से इस बात का वचन लें कि जो भी हो हम उन बेसहाए, बेजुबान जानवरों को भूखा नहीं रहने देंगे। जो दर्द हमारे अंदर अपने बच्चों के भूखे रहने से महसूस होता है, वही दर्द अगर इन बेजुबान जानवरों के लिए भी हो तो यकीनन कभी कोई भूखा ना रहेगा।


Comments 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *

log in

reset password

Back to
log in