वेश्यालय की मिट्टी से क्यों बनाई जाती है माता की मूर्ति, जानें पौराणिक कथा


वेश्यालय की मिट्टी से क्यों बनाई जाती है माता की मूर्ति, इसके पौराणिक कथा

हमारे सभ्य समाज में वेश्या का नाम बिल्कुल भी अच्छा नहीं समझा जाता. लेकिन सोचने वाली बात है कि आखिर नवरात्रि में माता की मूर्ति जो बनाई जाती है उसके लिए वेश्यालय की मिट्टी हीं क्यों लाई जाती है ? आखिर क्यों माता की प्रतिमा वेश्यालय की मिट्टी से ही बनाई जाती है ? कई फिल्मों में भी इसके बारे में बताया गया है. हममें से ज्यादातर लोगों को उसके पीछे के कारण और मान्यता के बारे में पता नहीं है. तो चलिए आज हम आपको बता रहे हैं इसके पीछे की पौराणिक मान्यता और महत्व को.

क्या है इसके पीछे की मान्यता
navratri-worship

कुछ पारंपरिक मान्यताएं और शारदा तिलकम, महामंत्र महार्णव, मंत्रमहोदधि जैसे ग्रंथों में इस बात की पुष्टि की गई है. बांग्ला मान्यताओं की बात करें तो यहां के अनुसार गोमूत्र, गोबर, लकड़ी, जूट के ढांचे, सिंदूर, धान के छिलके, पवित्र नदियों की मिट्टी, विशेष वनस्पतियां और जल के साथ निषिद्धो पाली के रज के समावेश से निर्मित माता की मूर्ति का निर्माण सर्वश्रेष्ठ माना गया है. बता दें कि निषिद्धो पाली वेश्याओं के घर के आस-पास वाले इलाके को कहा जाता है.
devi pratima

कोलकाता स्थित कुमरटलु इलाके में देश भर की सबसे अधिक माता की मूर्ति का निर्माण किया जाता है. और मिट्टी के लिए सोनागाछी की मिट्टी को उपयोग में लाया जाता है. सोनागाछी इलाके के बारे में तो आप सब जानते ही होंगे ये कोलकाता का सबसे बड़ा रेड लाइट इलाका है जो देह व्यापार का गढ़ है. तंत्र शास्त्र में निषिद्धो पाली के रज के सूत्र को कामना और काम से जुड़ा हुआ माना गया है.

READ  घड़ियाली आंसू बहाने की कहावत तो जानते होंगे लेकिन इसका राज नहीं पता होगा!

सामाजिक सुधार के सूत्र

माता की प्रतिमा के निर्माण में निषिद्धो पाली की मिट्टी का इस्तेमाल समाज में सुधार के सूत्र को भी संजोए हुए मालूम पड़ता है. जो महिलाएं पुरुषों की गलती की सजा भुगत रही है उसके उत्थान और सम्मान की प्रक्रिया के हिस्से का भी प्रतीक मालूम पड़ता है. प्राचीन विज्ञान यानी तंत्र, दैहिक सुख तांत्रिय उपासना के मुख्य उद्देश्यों में से एक है.

कामना के आधार की बात करें तो आध्यात्म के काम चक्र को कामना का आधार माना गया है. यदि आपने काम के विकार को सुधार लिया जाए और अपनी ऊर्जा प्रबंधन को दुरुस्त कर ले तो भौतिक कामना को पूर्ति करने का मार्ग आसान होना तय है.


Comments 0

Your email address will not be published. Required fields are marked *

log in

reset password

Back to
log in